Vinayak Patil father of Shraddha Patil
Social

गरीब पिता ने अपनी किडनी देकर बचाई बेटी की जान

हाल ही में आपने समाचारों के ज़रिये ये सुना होगा की बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव को उनकी बेटी रोहिणी आचार्य ने अपनी किडनी देकर अपने पिता की जान बचायी है. लेकिन, हम आज आपको एक ऐसे गरीब पिता के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपनी किडनी दान कर अपनी मासूम बेटी की जान बचायी है ताकि वो अपनी बेटी का कन्यादान कर सकें. उन्होंने अपनी किडनी देकर अपनी बेटी को एक नयी ज़िन्दगी दी है।

बता दें की विनायक पाटिल, जो की मीरा-भायंदर महानगरपालिका आयुक्त के कार्यालय में ग्रुप डी के तहत प्यून के पद पर कार्यरत है,उनकी बेटी श्रद्धा पाटील किडनी की गंभीर बीमारी से पीड़ित थी। डॉक्टरों ने बताया था कि श्रद्धा की दोनों किडनियां फैल हो चुकी है और लगभग फंक्शन करना भी बंद कर चुकी है. जल्द ही कुछ न किया गया तो उसकी जान को खतरा है। उसकी जान बचाने के लिए कम से कम एक किडनी ट्रांसप्लांट की जरूरत है। अपनी ढलती उम्र की परवाह किए बिना विनायक पाटील ने बेटी की जान बचाने के लिए अपनी एक किडनी डोनेट करने का साहसी फ़ैसला किया।

ऑपरेशन की सफलता के बाद श्रद्धा को मिला नया जीवन मिला।

अपनी बेटी के लिए अपनी जान जोखिम में डालने वाले इस पिता की जितनी प्रशंसा की जाए, वह कम है। सर्जरी की सफलता से उनका मानसिक तनाव तो कुछ हद तक कम हुआ है लेकिन इस जटिल सर्जरी के बाद ग्रुप डी एम्प्लोयी आर्थिक तनाव में आ गए है। अब विनायक पाटिल अपनी लड़की को और पढ़ाना चाहते है और उसके बाद ही कन्यादान करना चाहते है। लोगों का मानना है की, मनपा प्रशासन अपने इस एम्प्लोयी की कुछ मदद एम्प्लॉय बेनिफिट प्रोग्राम से कर सकती है, तो ज़रूर करे।

2 Replies to “गरीब पिता ने अपनी किडनी देकर बचाई बेटी की जान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *